सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किस्सा-ए-कम्युनिस्ट

कम्यूनिज्म तथा कम्यूनिस्टों के बारे में मुझे सबसे पहले अपने गाँव जमुआंव से ही पता चला था | उस दौर में भूमिहारों के घर कांग्रेसी या भाजपाई पैदा होते थे, डर के मारे कुछ लोग या यूँ कह सकते है कि ब्राह्मणों के चक्कर में भी राष्ट्रीय जनता दल यानि लालू जी के पाले में अवतरित हो जाते थे | हमारे टोले में कोई उतना पढ़ा लिखा नहीं था जो क्रांति की बात करता ,सब के सब सरकारी नौकर थे ,सत्ता के गुलाम लोगों का टोला था | गाँव में पक्के रूप में कहा जाये तो एक ही कॉमरेड थे ,सबको लाल सलाम कहते फिरते थे ,गाँव के चौक पर जय प्रकाश भाई का घर था | जब हम बच्चें लोग उनसे पूछते थे कि लाल सलाम का क्या मतलब है तो अक्सर बोल कर भगा देते थे कि तुम लोगों के समझ से बहार की चीज है | जब मैं छठी क्लास में पहुंचा तब दोस्तों के साथ हिम्मत जुटा कर उनसे पूछ बैठा, चक्कर क्या है कॉमरेड और लाल सलाम का ? पहले तो बोलने को तैयार नहीं थे बहुत ज़िद के बाद तैयार हुए, रिक्वेस्ट भी किया कि जो भी बोलूँगा हँसना नहीं है कॉमरेड तुम लोगों को, ध्यान से सुनना और जवाब देना है | बोलना शुरू किया ,जब कामरेडों की सरकार होगी तब सब कुछ हम लोगों के हाथ में होगा, व्यवस्था हमारे हाथ में होगी | सर्वहारा का शासन होगा | जिसकों जो चाहिए वो उसको वो चीज़ मिल जाएगी| श्याम बाबा सबसे बड़े थे उन्होंने बोला | हम लोगों को साईकल भी ! हा साईकल भी ! यहां तक कि लखराज बो को घर तक मिल जायेगा | भाई क्या क्या बताऊ ,मैं बहुत प्रभावित हो गया था कॉमरेड जयप्रकाश से | उन्होंने कहा कॉमरेड तुम लोग साथ दो हम क्रांति ला कर गाँव में रख देंगे | आठवीं क्लास के बाद मुझे तो बस देवेन्द्र बनिया का पैसा दिख रहा था जो जयप्रकाश ने उसकी तिजोरी में रखा मेरा हिस्सा दिखा दिया था | अब तो क्रांति हो कर रहेगी | अब दौर शुरू हुआ कॉमरेड बनाने का , मैंने बहुत से भूमिहारों और राजपूतों को बोला बन लो कॉमरेड मौका है | कुछ ने बहुत गालियाँ सुनायी और कुछ यानि 10 प्रतिशत भूख और प्यास मिटाने के लिए बन गये कॉमरेड | जो लोग नहीं बने कॉमरेड उनकों मैंने मान लिया था वो जाहिल लोग है ,अनपढ़ है जब ज्ञान होगा तो जरुर कॉमरेड बनने मेरे पास आयेंगे | अनपढ़ लोगों में मेरी दुकान चल निकली थी,हिंदी के मुश्किल शब्दों से मैंने अपनी दुकान सजा राखी थी, सबकों लालच देता रहा ,क्या बताऊँ भाई लाईन लगी थी कॉमरेड बनने की | सबको कुछ न कुछ चाहिए थे किसी को गाय,घोडा, मोबाईल,बाईक, बकरी,जर्सी, गाय,खाद आदि | सबको मैं पब्लिक डिमांड पे देने लगा था | मेरी पार्टी में आने वाले मेम्बरान की संख्या दोगुनी हो गई थी | कॉमरेड बनने के बाद जिसकों जो चाहिए वो मेरे घर आने लगा |
रामनाथ गोंड को साईकल चाहिए था तो रोज घर पे आने लगा था ,पिताजी अब नाराज होने लगे थे, |रोज सुबह से शाम तक लगभग 500 लोगों को लाल सलाम बोलने लगा था,इससे ज्यादा लोग मुझे बोलने लगे थे | नहाना और दाढ़ी बनाना बंद ही कर दिया था जब माँ बोलती थी तो कहने लगा था कि देश खतरें में है, तुमकों नहाने की पड़ी है |
जो लोग मेंबर नहीं थे उसकों यहीं बोलता रहा पहले मेंबर तो बन जाओ कॉमरेड,  फिर बात करते हैं | प्रेम गोंड और तपेसर राम ने कहा कि बाबु मुफ्त की चीज़ मिल रही है जवनी पार्टी में जोड़ना है जोड़ दी हमका |

पंचायत के सभी निकक्मों को अपनी पार्टी में खपा दिया था मैंने | सब रोज सुबह-शाम लाल सलाम, कॉमरेड, सर्वहारा,अधिनायकवाद बोलते रहते थे | सबकी नज़र देवेन्द्र बनिया और मैरवा के शाही लोगों पर थी| कुछ ही दिन बाद मैरवा में भी सीपीआईएम का दफ़्तर खुल गया था अब हमारी बैठकी वही लगने लगी थी, सभी निठल्लों की फ़ौज तैयार थी क्रांति के लिए, लेनिन और स्टॅलिन हमारे आदर्श हो गए | दीवारों पर रोज देखने लगा था | दादा स्वर्गीय शिवसागर राय का सूद वाला धंधा मैंने मंदा कर दिया था | उनके सूद के पैसे मैं माफ़ कराने लगा था | कुछ दिनों बाद मुझे पता चला कि मेरे कॉमरेड गुरु जयप्रकाश जी जेल चले गए | आरोप यह था कि उनके घर से बड़ी मात्र में हथियार बरामद हुआ था | ये भी पता चला कि वो अनपढ़ थे | कॉमरेड क्या बोलूं अब धीरे-धीरे सबकी पोल खुलने लगा थी, सभी शराबिओं का मंच खड़ा कर रखा था मैंने | जिस तरह से सोवियत रूस का विघटन हुआ था उसी तरह हमारे नसेड़ी-गजेडी कम्युनिस्ट पार्टी का विघटन हो गया | आज कल मैं भाजपाईयों से ज्यादा प्रभावित हूँ !

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वर्तमान शिक्षा व्यवस्था में मूल्यपरकता की आवश्यकता

हम धर्म और शिक्षा को चरित्र-निर्माण का सीधा मार्ग और सांसारिक सुख का सच्चा द्वार समझते हैं | हम देश-भक्ति को सर्वोत्तम शक्ति मानते हैं जो मनुष्य को उच्चकोटि की निःस्वार्थ सेवा करने कीओर प्रवृत्त करती है।
- मालवीय जी सीखने का अर्थ कुछ आंकड़ों और तथ्यों को याद कर लेना भर नहीं होता है, बल्कि उससे कहीं अधिक व्यापक होता है | जब किसी का ज्ञान जीवन के गहरे अंतर्ज्ञान में बदल जाए, तभी हम कह सकते हैं कि उसे सही अर्थों में शिक्षा मिली है | मूल्य आधारित शिक्षा उतनी ही पुरानी है जितना कि मानव सभ्यता | भारत में शिक्षा वैदिक युग से लेकर आज तक शिक्षा प्रकाश का श्रोत है जो जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में हमारा सच्चा पथ-प्रदर्शन करती है | आज संसार में अनेक देश है और प्रत्येक राष्ट्र की अपनी एक विशिष्टता है, यह विशिष्टता उस देश के लोगों द्वारा निर्मित्त है | क्योंकि कोई भी देश वहाँ बसे व्यक्तियों से बना है, जिस प्रकार एक-एक ईंट से मकान बनता है, और यह ईंट जितनी मजबूत होगी मकान उतना ही मजबूत होगा | उसी प्रकार जब तक एक-एक व्यक्ति शिक्षित नहीं होगे |वह देश मजबूत कैसे होगा? क्योंकि शिक्षा ही वह माध्यम है, जो एक …

वर्तमान समय में ई बुक्स की उपयोगिता का अध्ययन

प्रस्तावना कहते हैं कि किताबें ही आदमी की सच्ची दोस्त होती हैं, जमाना बदल रहा है ..लोगों के पास समय की कमी होती जा रही है | किताबों को पढने का भी तरीका परिवर्तित हुआ है | अब जमाना डिजिटल है तो किताबें भी डिजिटल हुईं | ई-पुस्तक(इलैक्ट्रॉनिक पुस्तक) का अर्थ है डिजिटल रुप में पुस्तक । ई-पुस्तकेंकागजकी बजाय डिजिटल संचिका के रुप में होती हैं जिन्हेंकम्प्यूटर,मोबाइलएवं अन्य डिजिटल यंत्रों पर पढ़ा जा सकता है । इन्हेंइण्टरनेटपर भी छापा, बांटा या पढ़ा जा सकता है ।ये पुस्तकें कई फाइल फॉर्मेट में होती हैं जिनमें पीडीऍफ (पोर्टेबल डॉक्यूमेण्ट फॉर्मेट), ऍक्सपीऍस आदि शामिल हैं, इनमें पीडीऍफ सर्वाधिक प्रचलित फॉर्मेट है ।ई-पुस्तको को पढ़ने के लिए कम्प्यूटर (अथवा मोबाइल) पर एक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है जिसे ई-पुस्तक पाठक(eBook Reader) कहते हैं । पीडीऍफ ई-पुस्तकों के लिएऍडॉब रीडरतथाफॉक्सिट रीडरनामक दो प्रसिद्ध पाठक हैं ।ई-बुक के सस्ता होने का कारण यह है कि इन पर पहली बार आने वाली लागत के बाद अमूमन कोई लागत नहीं आती । एक बार ई-बुक विकसित और प्रकाशित होने के बाद लेखक उसकी अनंत फाइलें बनाने के लिए स्वतं…

शराब समाज के लिए घातक

दोस्तों मैं देख रहा हूँ कि सभी राज्यों में शराब के कारण समाज दूषित हो रहा है और घर के अन्दर व बाहर महिलाएं हिंसा की शिकार हो रही हैं। एक तरफ लगभग सभी राज्यों की सरकार ने पंचायतों में महिलाओं को पचास फीसद आरक्षण दे दिया तो दूसरी तरफ प्रत्येक पंचायत में शराब की दुकान खोलने का लाइसेंस दे दिया। इस कारण गांवों की स्थिति बदतर होती जा रही है। शराब के कारण बिहार में 37.2 फीसद शादीशुदा महिलाएं अपने पति 
द्वारा प्रताडि़त हो रही हैं।सरकार शराब को राजस्व उगाही का मुख्य स्त्रोत बना रही है। यह महिलाओं को जीते जी नरक में ढकेलने जैसा है। केन्द्र सरकार को अपनी शराब नीति पर पुर्नविचार करना चाहिए।और राज्यों को इस दिशा में निर्देश जारी करनी चाहिए | गांव- गांव शराब दुकान खोलकर लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ किया जा रहा है। स्कूल- कालेजों के पास शराब की दुकानें खोली जा रही हैं।..इस समस्या पर कारगर कदम उठाने की जरुरत है ...| मित्रों आप सब की क्या राय है ????